Breaking

Tuesday, December 8, 2015

new love shayari

साबित नहीं होती मोहब्बत एक दुसरे को मिलने पर,
सब निर्भर करता है जाते वक़्त उसके मुड्कर देखने पर.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
उसने रात के अँधेरे में मेरी हथेली पे नाजुक सी ऊँगली से लिखा मुझे प्यार है तुझसे,
जाने कैसी स्याही थी वो लफ्ज मिटे भी नही और आज तक दिखे भी नही.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
गर लफ्ज़ों में कर सकते बयान इंतेहा-ए-दर्द-ए-दिल,
लाख तेरा दिल पत्थर का सही, कब का मोम कर देते.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
लोग कहते है कि सुधर जाओ वरना जिदंगी रूठ जायेगी,
हम कहतें है : जिदंगी तो वैसे भी रूठी है. पर हम सुधर गए तो हमारी पहचान रूठ जायेगी.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
यादो में तेरी तन्हा बैठे हैं,
तेरे बिना लबों की हसी गावा बैठे हैं.
तेरी दुनिया में अंधेरा ना हो,
इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
टूटकर भी कमबख्त धड़कता रहता है,
मैंने दुनिया में दिल सा कोई वफादार नहीं देखा.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
मुझे डर ये नहीं कि मैं भुला पाया नहीं उसको,
मुझे डर ये है वो मुझको हमेशा याद रखती है.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
कह तो दिया भूल गया तुझे,
अब बार बार ना पूछ इतना भी मजबूत नहीं.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
तू मिट्टी में भी मिला दे तो तुजसे जुदा हो नहीं सकता,
अब इस से ज़्यादा मैं तेरा हो नहीं सकता.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
ये जो मोहब्बत होती है ना,
बड़ी मोहब्बत से होती है.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने,
प्यार का हर फ़र्ज़ अदा किया हमने,
मत सोच कि हम भूल गए हैं तुझे,
आज भी खुदा से पहले तुझे याद किया हमने.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
वो तो शायरों ने लफ़्जों से सजा रखा है,
वरना मोहब्बत इतनी भी हंसी नही होती.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰
आज कुछ और नहीं बस इतना सुनो,
मौसम हसीन है लेकिन तुम जैसा नहीं.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿
मेरी हर बात पर हँस के कह देता था वो,
पागल हो तुम….
और मैँ कहता थी कि तुमने ही तो बनाया है.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿
कोई ज़िंदगी के फ़ैसलो से लड़ नही सकता,
किसी को खोना पड़ता है और किसी का होना पड़ता है.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿
जीवन का सूरज ढलता नही उससे पहले श्याम हो जाती है,
पिछले रात के तनहा हम, एक और रात आ जाती है.
⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿
मैं दो चींजो से डरता हुं,
एक तेरे रोने से और दुसरा तुझे खोने से,

No comments:

Post a Comment