Breaking

Wednesday, November 18, 2015

One line hindi sad status


》 हमेँ देख कर उसने,,,,,,, मुह मोड लिया...
तसल्ली सी हो गयी.,,,, पहचानती तो है...!
》 हम अपनी रूह
तेरे जिस्म में छोङ आये....
गले मिलना... तो एक बहाना था....
》 मेरे आँसुओ से कह दो छिपे रहे पलकों में ही आज,
कोई अपना आया है मिलने मुझसे मुद्दतों के बाद..!!
》 मै कितना भी अच्छा रहने की कोशिश करू.... फिर भी लडकिया कहती हैं साला सुधरेगा नही......!!
》 एक तेरी ज़िद ने किस हाल में ला दिया है हमें,
जो जज़्बात थे सिर्फ तुम्हारे लिए,
उन्हें अब ज़माना पढ़ रहा है...!!!
》 बिलकुल ज़ुदा हैं मेरे महबूब की सादगी का अंदाज़ ,
नज़रे भी मुझ पर गड़ाये बैठे हैं और कहते है जी लेंगे हम तेरे बिन ..
》 मरने के नाम से जो रखते थे होठों पे उंगलियां,
अफसोस वही लोग मेरे दिल के कातिल निकले........
》 माना की ऐ सनम तुमने मोहब्बत का हर फर्ज निभाया है,
पर उस मां को कैसे भूल जाऊ जिसने प्यार करना सिखाया है.
》 तुम्हे हाथो से नहीं दिल से छुना चाहते हैं...
.
ताकि तुम ख्वाबों में नहीं मेरी रूह में आ सको......
》 नब्ज़ मेरी देखकर तो बोला हकीम..
ज़िंदा है इसमें कोई..लेकिन ये मर चुका है..!
》 न जाने इस जिद का नतीजा क्या होगा
समझता दिल भी नही, वो भी नही, मै भी नही।।..
》 लोग दीवाने हैं बनावट के...
हम सादगी लेकर कहाँ जायें?
》 मोहब्बत रूह में उतरा हुआ मौसम है जनाब,
ताल्लुकात कम कर देने से कम नहीं होती...!!!
》 मोहब्बत से फतैह करो लोगो के दिलो को,
जरुरी तो नही सिकन्दर की तरह तलवार रखी जाये.
》 हम अपनी रूह
तेरे जिस्म में छोङ आये....
गले मिलना... तो एक बहाना था....
》 बडी देर से देख रहा हूँ आज तस्वीर तेरी
देख कर जाने क्यों लगा कि तुम वो ना रहे जो पहले थी...
》 मेरे लफ़्ज तो शायद आप लोगो को पसंद नहीं आये..
काश..मेरे दिल को पढ़ पाते तुम..!
》 थोड़ी शायरी, कुछ नगमे..
आइए साथ चलें इश्क़ के सफ़र पर !!
》 तेरे बग़ैर इश्क़ हो तो कैसे हो
इबादत के लिए ख़ुदा भी तो ज़रूरी होता है
》 मेरी फितरत में नहीं है अपना गम बयान करना,
अगर अहसास है तो महसूस कर तकलीफ मेरी..!!
》 हासिल हो जाये हर चीज़ आसानी से तो मज़ा ही क्या है,
हो के अपना कोई खो जाये इससे बड़ी सजा भी क्या है..!!!
》 ऐ मेरे खुदा मुझ पर इतना तो रहम कर दे , पूरी न की
उन्हें पाने की ख्वाइश तो उसे दिल से तो खत्म कर दे..!!
》 ताल्लुकात बढ़ाने है तो कुछ आदते बुरी सीख लो,
ऐब न हों तो लोग महफ़िलों में नहीं बिठाते...!!
》 आँखों ने तुझे देखा था,और दिल ने पसंद किया...
बता..!!!
आँखे­ निकाल दूँ,,,? या सीने से दिल...?
》 मुझ को किसी पे टुट के मरने ना दिया,
दुनिया ने ढंग से इश्क भी करने ना दिया.
》 लोग दीवाने हैं बनावट के...
हम सादगी लेकर कहाँ जायें?
》 कुछ खता थी खामोशियो की.
कुछ इल्ज़ाम थे शाम के..
》 आज कल की ‪‎लडकिया‬ बहोत सच्ची होती है।।
लड़को  का दिल तोड़  सकती है..मगर अपना वादा नहीं !!
》 पाने की चाहत🏻तो सिर्फ तुझे  थी
अब कोई फरिश्ता भी आ जाये तो भी ‪मोहब्बत‬  ना करू
》 उस 'गरीब' की 'उम्मीदें'
क्या होंगी,
जिसकी 'साँसे' भी 'गुबारों' में
बिकती है...।
》 जब आप इश्क़ में होते है तो कुछ सही गलत नहीं- होता
बस इश्क़ होता है..

No comments:

Post a Comment